Home Crime News नोएडा: सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने कॉल सेंटर के फर्जीवाड़े के खिलाफ उठाई आवाज...

नोएडा: सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने कॉल सेंटर के फर्जीवाड़े के खिलाफ उठाई आवाज तो दरोगा ने पीटा

57
0
प्रतीकात्मक फोटो

नोए़डा : नोएडा के सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने कॉल सेंटर के फर्जीवाड़े के खिलाफ आवाज उठाई तो जांच के नाम पर उसे जमकर परेशान किया जा रहा है। साइबर सेल में तैनात सब इंस्पेक्टर पर आरोप है कि उन्होंने कॉल सेंटर मालिक की मौजूदगी में युवक को महज डेढ़ मिनट में ही 14 थप्पड़ जड़ दिए।

सब इंस्पेक्टर ने कॉलर पकड़कर काफी देर तक युवक को धमकाया भी। यह पूरी घटना कॉल सेंटर ऑफिस में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद भी हो गई है। पीड़ित युवक का दावा है कि साइबर सेल के सब इंस्पेक्टर ने खुद को इंचार्ज बताते हुए कहा था कि तुम स्वीकार कर लो कि डेटा चोरी किया है वरना बहुत बुरा हाल करूंगा।

इस पर पीड़ित युवक ने जब कोई प्रूफ नहीं होने और अपने फोन व लैपटॉप को पहले से ही जमा करने की बात कही तो आरोपी सब इंस्पेक्टर ने कहा कि जुबान लड़ाता है। यह कहकर फिर से कई बार थप्पड़ मारे। इस मामले को पीड़ित युवक ने एसएसपी से लेकर आईजी व डीआईजी को ऑनलाइन शिकायत की है। पीड़ित युवक पुलिस के इस व्यवहार से सहमा हुआ है। 

पीड़ित ने एसएसपी से लेकर आईजी व डीआईजी को ऑनलाइन शिकायत की है 

सपोर्ट के नाम पर अमेरिका, कनाडा व अन्य देशों के लोगों से ठगी करने का किया दावा 

पीड़ित युवक सहाबुद्दीन गाजियाबाद के रहने वाले हैं। उन्होंने सेक्टर-65 स्थित एक कॉल सेंटर में दिसंबर 2018 में बतौर आईटी इंजीनियर जॉइन किया था। सहाबुद्दीन ने दावा किया है कि कॉल सेंटर कंपनी कर्मचारी अमेरिका की जानी-मानी टेक सपोर्ट कंपनी एजीआईटी सॉल्यूशंस के नाम पर लोगों को फोन करके उनके कंप्यूटर या लैपटॉप को रिमोट पर ले लेते हैं। इसके बाद उसमें पायरेटेड सॉफ्टवेयर सपोर्ट देने के साथ ब्लैकमेल करते हुए डॉलर में ठगी करते हैं। इसे जानकर मार्च में ही उन्होंने नौकरी छोड़ने की फेशकश की थी।

इसके बाद कॉल सेंटर मालिक ने अप्रैल तक का नोटिस पीरियड पूरा करने के निर्देश दिए थे। 18 अप्रैल को नोटिस पूरा होने के बाद वह काम पर नहीं आ रहा था। इस बीच, 1 मई को कंपनी मालिक ने मैसेज भेजकर मिलने के लिए बुला लिया और उसके फोन व लैपटॉप की जांच के लिए अपने पास रख लिया। उसने डेटा चोरी का आरोप लगाते हुए जांच करने की बात कही थी। 

कंपनी मालिक ने केबिन में सब इंस्पेक्टर से पिटवाया 

पीड़ित का आरोप है कि उसने जब फर्जीवाड़े के मामले को उठाया तो उसे फंसाने के लिए डेटा चोरी का आरोप लगाया गया। इस संबंध में 14 मई को थाना फेज-3 में कंपनी मालिक की तरफ से अज्ञात के खिलाफ डेटा चोरी कर फर्जीवाड़ा करने की रिपोर्ट दर्ज करा दी गई। इसी मामले को लेकर 19 मई को सहाबुद्दीन को नोएडा ऑफिस में फोन व लैपटॉप लौटाने के लिए बुलाया गया था।

हालांकि, शहर से बाहर होने की वजह से वह नहीं आ पाया था। इसलिए 21 मई की शाम करीब 6:45 बजे कॉल सेंटर मालिक से मिलने पहुंचा। इसके बाद उसे कंपनी मालिक के केबिन में बैठाया गया। रात करीब 7:45 बजे साइबर सेल में तैनात सब इंस्पेक्टर बलजीत सिंह कंपनी ऑफिस में पहुंचे थे।

आरोप है कि सब इंस्पेक्टर ने पहले 7-8 मिनट बात की और इसके बाद डेटा चोरी करने की बात को स्वीकार करने के लिए धमकाया। सहाबुद्दीन ने ऐसा करने से मना कर दिया तब सब इंस्पेक्टर ने पिटाई शुरू कर दी। ताबड़तोड़ कई थप्पड़ जड़ दिए और कमर में लगाई रिवॉल्वर को दिखाकर भी धमकाया।