Home Delhi NCR ग्रेनो: भारी भरकम मेंटीनेंस देने के बाद भी गेलेक्सी सोपी के दुकानदारों...

ग्रेनो: भारी भरकम मेंटीनेंस देने के बाद भी गेलेक्सी सोपी के दुकानदारों को नहीं मिल रही मूलभूत सुविधाएं, नेफोमा से की शिकायत

69
0


ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा वेस्ट में गौर सिटी दो में स्थित गेलेक्सी सोपी मार्केट के दुकानदार भारी भरकम मेंट्नेन्स के बाद भी बुनियादी सुविधाओं के लिए परेशान हो रहे है, दुकानदारो ने नेफोमा को पत्र लिखकर सहायता मांगी है, दुकानदारों का कहना है यहाँ पर अक्सर गेलेक्सी व पास की सोसाइटी के निवासी सामान खरीदने के लिए आते रहते है।

आम सुविधाएं न होने के कारण जनता को परेशान होना पड़ता है, लेकिन यहाँ का मैनिजमेंट सिर्फ़ नाममात्र दर्शक ही है, जो किसी भी दिन एक बढ़ी घटना के रूप में सामने आ सकता है फ़र्स्ट फ़्लोर में लगी हुए ग्रिल्ज़ जो पूरी तरह से टूटी हुए है, और दीवारों पर खुली हुई बिजली की तारे किसी बड़ी दुर्घटना का संकेत है।

यूँ तो फ़र्स्ट फ़्लोर के लिए लिफ़्ट लगी है लेकिंग वो भी पिछले तीन साल से भी ज़्यादा समय से ना चलने की वजह जंग कहा रही है, मार्किट आने जाने वाले बुज़ुर्गों और महिलाओं को आए दिन कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। आस पास होने वाली गंदगी और साफ़ सफ़ायी के पुख़्ता इंतज़ाम तक नही है टॉयलेट में पानी की समस्या बनी हुई है, कभी पानी आता नही है और कभी टपकता रहता है, सफाई कभी होती ही नही है।

नेफोमा अध्यक्ष अन्नू खान ने बताया हमने वीडियो देखा जिसमें मरीज को सीढ़ियों द्वारा लाया जा रहा जो कि पहली मंजिल पर अपना चेकअप कराने आए थे, मुझे बहुत दुख हुआ कि लिफ्ट होने के बाबजूद बिल्डर के सुस्त रवैये की वजह सोसाइटियों के निवासी परेशान हो रहे है, हमने बिल्डर और प्राधिकरण से शिकायत की है व सभी फोटो, वीडियो भेजे है, अगर जल्द कार्यवाही नही की गई तो कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है, मेंटीनेंस सही से न होने के कारण बिजली के तार भी जर्जर हो रहे है, जगह जगह पान तम्बाकू थूक कर दीवारों को गंदा किया, बाथरूम इस्तेमाल करने लायक नही है।

हमें यह तक पता चला कि गेलेक्सी सोपी मार्केट के दुकानदार बाथरूम इस्तेमाल करने दूसरी मार्केट में जाते है यह बिल्डर के लिए शर्म से डूब मरने की बात है। नेफोमा सदस्य व मार्केट में ही पार्लर चलाने वाली सीटू वर्मा ने बताया गैलिक्सी का मैनेजमेंट सिर्फ़ अपनी मनमानी और ढीला रवैया अपना रहा है, कभी भी डाइरेक्टर से बात नही होती, यहां का स्टाफ सुनता नही है जिसके कारण पूरी मार्केट में गंदगी, कूड़े का ढेर नजर आता है।