Home Crime News नोएडा: डॉ.महेश शर्मा की ब्लैकमेलिंग में उषा ठाकुर ने खुद को ठहराया...

नोएडा: डॉ.महेश शर्मा की ब्लैकमेलिंग में उषा ठाकुर ने खुद को ठहराया बेकसूर

180
0

नोएडा : केंद्रीय मंत्री डॉ महेश शर्मा से दो करोड़ की वसूली की कोशिश मामले में फरार चल रहा चैनल मालिका आलोक कुमार के बारे में डॉ महेश से पहली बार मिलने वाली समाज सेविका उषा ठाकुर ने मंगलवार को कहा कि आलोक कुमार उनसे अगस्त 2018 से ही केंद्रीय मंत्री डॉ महेश शर्मा से मिलवाने के लिए दबाव बना रहा था।

हालांकि उस दौरान आलोक कुमार ने यह नहीं बताया था कि वह केंद्रीय मंत्री से क्यों मिलना चाहता है और जब 1 साल बीत गया तो आलोक कुमार ने एक बार फिर कोशिश की कि वह डॉ महेश कुमार से मिल सके इसलिए उन्होंने उषा ठाकुर को कहा कि वह चुनाव प्रचार में डॉ महेश शर्मा की मदद करना चाहता है।

इस बात पर ही उषा ठाकुर आलोक कुमार को केंद्रीय मंत्री महेश कुमार से मिलवाने के लिए राजी हो गई और उन्होंने मुलाकात करा दी। उषा ठाकुर ने दावा किया कि उन्हें इस बात की भनक नहीं थी कि आलोक उनका इस्तेमाल कर स्ट्रिंग ऑपरेशन द्वारा ब्लैकमेल करने वाला है।

उषा ठाकुर ने अपनी जानकारी के अनुसार बताया कि आलोक मूल रूप से भागलपुर बिहार का रहने वाला है उन्हें जानकारी मिली है कि पहले वे आईटी कंपनी में नौकरी करता था नौकरी छोड़कर उसने प्रतिनिधि चैनल को संचालित कर रहा था। उन्होंने कहा कि उसके बुलाने पर उसके चैनल पर दो-तीन बार डिबेट में हिस्सा लेने गई थी वहीं ब्लैकमेलिंग मामले में सोमवार को गिरफ्तार हुई निशु उनकी एनजीओ के लिए कभी-कभी काम करती थी लेकिन वह आलोक के चैनल में ही कर्मचारी थी।

उषा ठाकुर ने आरोप लगाया है कि आलोक ने अपने उद्देश्य को लेकर उन्हें पूरी तरह से धोखे में रखा उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री को ब्लैकमेल करने की कोशिश मामले से उनका कोई लेना देना नहीं है उन्होंने साफ इनकार करते हुए यह दावा दिया है कि ब्लैकमेलिंग मामले में दर्ज एफ.आई.आर में वह आरोपित नहीं है।

उषा ठाकुर का कहना है कि ब्लैकमेलिंग के मामले में उन्हें भनक तक नहीं थी फिर भी पुलिस ने उन्हें सोमवार रात 12:00 बजे तक हिरासत में रखकर महिला थाने में पूछताछ की और उनका उत्पीड़न किया जबकि वह डायबिटीज की मरीज है वह पुलिस उत्पीड़न के खिलाफ मानव अधिकार आयोग से शिकायत करेंगी।