*भारत और फिलिस्तीन के बीच ऐतिहासिक संबंध हुए मजबूत: पीएम मोदी*

*भारत और फिलिस्तीन के बीच ऐतिहासिक संबंध हुए मजबूत: पीएम मोदी*

39
0
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अंतरराष्ट्रीय एकजुटता दिवस के अवसर पर फलस्तीनी लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि भारत को उम्मीद है कि इजरायली-फलस्तीनी संघर्ष के व्यापक एवं वार्ता पर आधारित समाधान की दिशा में बढऩे के लिए फलस्तीन और इजरायल के बीच वार्ता जल्द बहाल होगी।

मोदी ने कहा कि मैं फलस्तीनी मुद्दे के प्रति भारत का ठोस समर्थन व्यक्त करना चाहता हूं और इजरायल राष्ट्र के साथ एक संप्रभु, स्वतंत्र एवं एकजुट फलस्तीन राष्ट्र का शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व स्थापित करने के उनके प्रयासों में फलस्तीनी लोगों के प्रति अपनी एकजुटता प्रर्दिशत करता हूं। इस मौके पर हमें उम्मीद है कि इजरायली-फलस्तीनी संघर्ष के व्यापक एवं वार्ता पर आधारित समाधान की दिशा में बढऩे के लिए फलस्तीन और इजरायल के बीच वार्ता जल्द बहाल होगी।

मोदी ने कहा कि हालिया वर्षों में भारत और फलस्तीन के बीच ऐतिहासिक संबंध मजबूत हुए हैं। इस साल फरवरी में उनकी रामल्ला यात्रा किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली फलस्तीन यात्रा थी।यह यात्रा फलस्तीन के विकास के लिए भारत की ठोस प्रतिबद्धता की परिचायक थी। भारत ने फलस्तीनी छात्रों के लिए वार्षिक छात्रवृति बढ़ाने, एक अत्याधुनिक अस्पताल का निर्माण सहित छह परियोजनाएं शुरू करने और यूएनआरडब्ल्यूए (यूनाइटेड नेशंस रिलीफ एंड वक्र्स एजेंसी फॉर फलस्तीन रिफ्यूजीज इन दि नियर ईस्ट) में वार्षिक अनुदान में बढ़ोतरी की घोषणा की है।

मोदी ने कहा कि हमारी वित्तीय और तकनीकी सहायता फलस्तीनी संस्थाओं को मजबूत करने की हमारी ठोस प्रतिज्ञा की अभिव्यक्ति है। बुधवार को संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा था कि द्वि-राष्ट्र समाधान, जिसमें इजरायल और फलस्तीन संप्रभु राष्ट्र के तौर पर साथ-साथ रहें, चिरस्थायी शांति का अब भी ‘‘एकमात्र विकल्प’’ है।