Home Crime News नोएडा: प्राधिकरण के प्लॉट बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश

नोएडा: प्राधिकरण के प्लॉट बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश

39
0

नोएडा : प्राधिकरण के प्लॉट को खुद का बताकर बेचने वाले एक गिरोह का कोतवाली सेक्टर-49 पुलिस ने पर्दाफाश किया है। गिरोह ने सेक्टर-101 मेट्रो स्टेशन के पास के दो प्लॉट 64 लाख रुपये में बेच दिए थे। पुलिस ने गिरोह के दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, सरगना समेत चार आरोपी फरार हैं।

कोतवाली सेक्टर-49 के प्रभारी निरीक्षक अजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि इंदिरापुरम निवासी सपना गर्ग व हापुड़ निवासी साधना गर्ग ने कोतवाली सेक्टर-49 में फर्जी प्लॉट रजिस्ट्री करवाने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इस मामले में सर्फाबाद निवासी पप्पू यादव, योगेश, दिल्ली निवासी इश्तियाक, इमरान, लाखन सिंह व रोहित नागर को नामजद कराया गया था।

पुलिस जांच में पता चला कि आरोपियों ने सेक्टर-101 मेट्रो स्टेशन के पास सेक्टर-79 में प्राधिकरण के 400-400 मीटर के दो प्लॉट को अपना बताकर सपना व साधना की रजिस्ट्री करा दी। इसके एवज में दोनों से 64 लाख रुपये लिए। रजिस्ट्री के बाद प्लॉट पर जल्द ही कब्जा दिलाने का भरोसा दिलाया। गिरोह का सरगना पप्पू यादव है। वह मां शारदा इंफ्राटेक के नाम से प्रॉपर्टी का ऑफिस चलाता है।

आरोपी इमरान खुद को सुनील शर्मा बताता है और इश्तियाक के नाम पर फर्जी पावर ऑफ अटॉर्नी बना रखी थी। ये लोग इस तरह की कई ठगी कर चुके हैं। पुलिस ने बृहस्पतिवार रात को सर्फाबाद के पास से इश्तियाक व इमरान को गिरफ्तार कर लिया। 

वहीं, योगेश, पप्पू यादव, लाखन सिंह व वकील रोहित नागर फरार हैं। पूछताछ में पता चला है कि इन भूमाफिया ने सेक्टर-101 के पास कई प्लॉट को अपना बताकर लोगों को बेचा है। ये लोग बाकायदा पम्फलेट छपवाकर नोएडा के सेक्टर-101 में सस्ते दर पर जमीन देने का प्रलोभन लोगों को देते थे व पक्की रजिस्ट्री का झांसा देकर दूसरे की जमीन को किसी और के नाम रजिस्ट्री करवा देते थे।