Home Crime News नोएडा: संजय भाटी के साथ गिरफ्तार हुआ बाइक बोट का निदेशक

नोएडा: संजय भाटी के साथ गिरफ्तार हुआ बाइक बोट का निदेशक

23
0

नोएडा : बाइक बोट कंपनी के नाम पर एक साल में निवेश की गई रकम को दोगुना करने का झांसा देकर निवेशकों से अरबों रुपये की ठगी करने वाले कंपनी के निदेशक राजेश भारद्वाज को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। मूलरूप से खुर्जा बुलंदशहर निवासी राजेश भारद्वाज क्लियो काउंटी सोसायटी में फ्लैट खरीद कर रह रहा था।

उसने ही गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटेड (जीआईपीएल) के एमडी संजय भाटी को बाइक बोट की फर्जी स्कीम लांच करने की सलाह दी थी। सिर्फ दसवीं पास राजेश भारद्वाज ने सबसे पहले वर्ष 2001 में सिक्योर लाइफ कंपनी में नेटवर्किंग मार्केटिंग का काम किया। आज भी सिक्योर लाइफ कंपनी में नेटवर्किंग मार्केटिंग का काम किया जाता है।

कोतवाली एक्सप्रेस-वे पुलिस ने आरोपित को कोर्ट में पेश कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। पुलिस ने बताया कि राजेश भारद्वाज वर्ष 2017 में जीआइपीएल में निदेशक पद पर ज्वाइन किया। उसने धूपबत्ती व अगरबत्ती बनाकर खुर्जा कस्बे में बेचने का काम भी किया है। अगरबत्ती बेचने के दौरान ही उसकी मुलाकत जीआइपीएल के एमडी संजय भाटी से हुई। जान-पहचान बढ़ने के बाद संजय भाटी ने राजेश भारद्वाज को बताया कि वह गर्वित इनोवेटिक प्रमोटर्स लिमिटेड कंपनी चलाता है। उसकी कंपनी वर्ष 2010 से पंजीकृत है।

अब वह ऑनलाइन ओला व उबर कैब की तरह ही बाइक टैक्सी चलाना चाहता है। संजय भाटी ने उसे बताया था कि वह शीघ्र ही बाइक बोट प्रोजेक्ट को लांच करने वाला है। संजय भाटी ने उसे अपनी कंपनी में शामिल कर निदेशक बनाने का ऑफर दिया। वर्ष 2017 में वह कंपनी ज्वाइन करने के बाद उसने बाइक बाइक बोट नाम से एक फर्जी स्कीम बनाई।

इस स्कीम के तहत लोगों को एक टैक्सी बाइक लगाने के लिए 62100 रुपये निवेश करने के बदले एक साल में दोगुनी रकम वापस देने का झांसा दिया। आरोपितों ने निवेशकों को बताया कि निवेश के बदले कंपनी उन्हें 6765 रुपये प्रतिमाह एक वर्ष तक देगी।

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि बाइक बोट स्कीम से कंपनी को करीब ढाई करोड़ रुपये मिले। इस पैसे से राजेश भारद्वाज ने क्लिओ कंट्री सोसाइटी में एक फ्लैट और एक कार खरीदी। आरोपित ने प्रमोशन कार्यक्रमों के जरिए लाखों लोगों को कम्पनी में निवेश करने के लिए प्रलोभन दिया। कंपनी के एमडी संजय भाटी व अन्य निदेशकों ने साथ मिलकर धोखाधड़ी कर लोगों से करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी की।

कोतवाली एक्सप्रेस-वे पुलिस ने आरोपित को कोर्ट में पेश कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। पुलिस ने बताया कि राजेश भारद्वाज वर्ष 2017 में जीआइपीएल में निदेशक पद पर ज्वाइन किया। उसने धूपबत्ती व अगरबत्ती बनाकर खुर्जा कस्बे में बेचने का काम भी किया है। अगरबत्ती बेचने के दौरान ही उसकी मुलाकत जीआइपीएल के एमडी संजय भाटी से हुई।